दिन के सपने, by Otteri selvakumar Subscribe to rss feed for Otteri selvakumar

 दिन के साथ
मैं सपना देख रहा हूँ
सिर्फ मेरे बिस्तर
आँख के साथ खुला
नींद के बिना
रविवार बढ़ोतरी
पसंद करने के लिए आनंद
Posted: 2016-07-03 13:53:53 UTC

This poem has no votes yet. To vote, you must be logged in.
To leave comments, you must be logged in.
Tweet